वैध यात्रा दस्तावेजों के बिना मिजोरम में प्रवेश करने के मामले में बांग्लादेश से आए 12 संदिग्ध रोहिंग्याओं को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस उपनिरीक्षक (उत्तरी रेंज) लालबैकथंगा ख्यांगते ने बताया कि बांग्लादेश से आठ महिलाओं एवं चार लड़कों को रविवार को एक मकान से यहां बावंगकान पुलिस थाने ले जाया गया। ऐसा संदेह है कि वे मानव तस्करी के पीड़ित हैं।




ख्यांगते ने बताया कि गिरफ्तार किए गए लोगों के पास से बिना सिम कार्ड वाले कुछ मोबाइल फोन मिले हैं। उनकी पहचान पता करने के लिए जांच जारी है। 12 लोग एक महिला के आवास से मिले। महिला ने दावा किया है कि म्यामां के तहन में रहने वाले उसे एक संबंधी ने उससे 'मेहमानों' को अपने घर में रखने को कहा था। इससे पहले अप्रैल के अंत में भी भारत-म्यामां सीमा पर स्थित वैरेंगते शहर से आठ रोहिंग्या महिलाओं को अवैध रूप से मिजोरम में घुसने की कोशिश करने के मामले में हिरासत में लिया गया था।महिलाओं ने दावा किया था कि वे बांग्लादेश के एक शरणार्थी शिविर में थीं और 19 अप्रैल को कुछ लोगों ने उनका अपहरण किया और वे उन्हें ट्रक से मिजोरम लेकर आए।