कोहिमा ।

देश में मानूसन को लेकर चौंकाने वाली खबर आई है। हाल ही में मानसून केरल और तमिलनाडु पहुंच गया है जहां इसका रूख उत्तरपूर्वी राज्यों की ओर हो चला है। इस वजह से असम, मेघालय में भारी मूसलाधार बारिश हो सकती है, केरल, लक्षद्वीप, अंडमान निकोबार द्वीप, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, तटीय ओडिशा, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम त्रिपुरा में भी भारी बारिश के आसार हैं। उत्तर भारत के राज्यों मध्य प्रदेश, विदर्भ में लू चल सकती है। हालांकि महाराष्ट्र के कुछ इलाकों में प्री—मानसून की वजह से बारिश हो गई है। उधर राजस्थान, गुजरात, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, चंडीगढ़ में भारी गर्मी पड़ने के साथ ही लू चलने की खबर है।


मॉनसून में देरी

मॉनसून में देरी जून के पहले 9 दिनों में वर्षा में 45 प्रतिशत कमी देखी गई है।भारतीय मौसम विभाग के अनुसार जून के पहले 9 दिनों में देश में वर्षा की कमी बढ़कर 45 प्रतिशत हो गई है। मॉनसून ने एक सप्ताह की देरी से 8 जून को केरल में दस्तक दी है। इस वजह से देश के अलग-अलग हिस्सों में मॉनसून देर से पहुंच रहा है। मौसम विभाग के मुताबिक देश में 32.4 मिलीमीटर की सामान्य वर्षा के की तुलना में केवल 17.7 मिलीमीटर बारिश हुई, इससे वर्षा की कमी का आंकड़ा लगभग 45 प्रतिशत तक हो गया है।


यहां पड़ सकता है अकाल

देश के चार मौसम डिविजनों में सबसे अधिक 66 प्रतिशत की कमी मध्य भारत में है। इनमें महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, गुजरात, गोवा, ओडिशा और छत्तीसगढ़ शामिल हैं। वहीं, मध्य भारत के गुजरात में कच्छ तथा सौराष्ट्र उप-प्रभागों में 100 प्रतिशत की कमी मानी गई है। महाराष्ट्र के विदर्भ और मराठवाड़ा स्थिति बहुत गंभीर है। यहां बारिश की कमी क्रमशः 70 प्रतिशत और 50 प्रतिशत हो चली है।