गुवाहाटी ।

रेलवे स्टेशनों के साथ ही ट्रेनों में गैर-कानूनी रूप से खाने पीने व पढ़ने का सामान बेचने वालों पर BJP सरकार सख्त कदम उठा रही है। सरकार अब ऐसे लोगों को की पहचान कर उन्हें भगाने समेत उनके अनाधिकृत रसोई घर, ढ़ाबे या दुकानों को तोड़कर नष्ट करेगी। इस कार्रवाई के तहत अब तक लाखों विक्रेताओं को गिरफ्तार किया गया है तथा हजारों को हिरासत में लिया गया है।


रेल यात्रियों को होती है असुविधा

रेलों अथवा रेलवे स्टेशनों पर अनाधिकृत विक्रताओं की वजह से यात्रियों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। ये भारतीय रेल के लिए एक बड़ी समस्या बन चुके हैं। ऐसे विक्रेताओं पर अब कड़ी नजर रखी जा रही है। अभी तक पूरे देश से लगभग 2.2 लाख विक्रेता गिरफ्तार किए जा चुके हैं। रेल अधिनियम 1989 की धारा 144 के तहत अभी तक 62 लोगों को हिरासत में लिया गया है।


कड़ी कार्रवाई का फैसला

रेल मंत्रालय इस तरह के अनाधिकृत विक्रताओं पर सख्त कार्रवाही करने जा रहा है तथा गुवाहाटी समेत सभी जोनों में संभावित रोकथाम के मानदंड अपनाने के निर्देश जारी किए हैं। इसके तहत रेलों में औचक निरीक्षण करने के आदेश दिए गए हैं। साथ ही आपूर्ती करने वाले स्त्रोतों को नष्ट करने के भी निर्देश हैं। इसके तहत रेलवे ट्रेकों के निकट अथवा स्टेशन की सीमा में आने वाले या उसके आस—पास के रसाईघरों को तोड़ने का निर्देश जारी किया गया है। इसके साथ ही अधिकृत विक्रेताओं को पहचान पत्र भी जारी किए जा रहे हैं। भारतीय रेल की तरफ से अनाधिकृत विक्रताओं को रोकने के लिए कदम उठाने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों को पुरस्कृत किया जाएगा।