गुवाहाटी। ।

 कमालपुर से असम गण परिषद के विधायक सत्यब्रत कलिता ने प्रधानमंत्री मोदी को लेकर आपत्तिजनक बयान दिया है। कलिता ने कहा कि प्रधानमंत्री ने असम के लोगों को धोखा दिया है। प्रधानमंत्री राज्य के लोगों के लिए आतंकी बन गए हैं। बकौल कलिता, वह राज्य के लोगों के लिए आतंकी बन गए हैं, जो असम में आतंकवाद फैलाने के लिए आते हैं।




एजीपी के विधायक ने कहा कि 2014 के लोकसभा चुनाव में असम के लोगों ने भाजपा के समर्थन में वोट किया था और मोदी के वादों पर भरोसा करके 2016 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को सत्ता दिलाई लेकिन मोदी ने चुनाव से पहले किए गए वादों को पूरा नहीं कर असम के लोगों के साथ धोखा किया। मोदी ने 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान अवैध बांग्लादेशियों के मुद्दे के हल का वादा किया था। लेकिन अब वह नागरिकता(संशोधन)बिल लागू कर अवैध बांग्लादेशियों को लाने की कोशिश कर रहे हैं।




वहीं दूसरी ओर भाजपा के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार ने 1985 के असम समझौते को लागू करने के लिए अभी तक कुछ नहीं किया है। भाजपा सरकार ने असम के लोगों के लिए कुछ नहीं किया। कलिता ने राज्य के वित्त मंत्री हिमंता बिस्वा सरमा को भी उनके एक बयान को लेकर आड़े हाथों लिया। सरमा ने बयान दिया था कि ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन(आसू) के नेताओं को गंगा नदी में डुबकी लगानी चाहिए। इस बयान को लेकर कलिता ने कहा कि किसी को अपने इतिहास को नहीं भूलना चाहिए। सरमा भी आसू से हैं, इसलिए उन्हें आसू पर बयान देने से पहले इस तथ्य को याद रखना चाहिए।




आपको बता दें कि मोदी सरकार ने नागरिकता कानून 1955 में संशोधन किया है। इस संशोधन के जरिए पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में धार्मिक अत्याचार के कारण भारत आए 6 धर्मों (अल्पसंख्यक समुदाय) के लोगों को भारतीय नागरिकता प्रदान करने का प्रावधान किया गया है। नागरिकता संशोधन बिल 8 जनवरी को लोकसभा में पारित हो गया। बिल अभी तक राज्यसभा में पेश नही किया गया है क्योंकि ऊपरी सदन में मोदी सरकार के पास बहुमत नहीं है। असम सहित पूरे पूर्वोत्तर में बिल का जबरदस्त विरोध हो रहा है।