गुवाहाटी। ।

लोकसभा चुनाव की घोषणा के साथ ही देश भर में आचार संहिता लागू हो चुकी है। चुनाव आयोग के निर्देश अनुसार पचास हजार से अधिक की नकदी राशि बिना कागजात के एक स्थान से दूसरे स्थान पर नहीं ले जाया जा सकता है। पकड़े जाने पर उक्त व्यक्ति को रुपयों के स्त्रोत की पूर्ण रूप से जानकारी देनी होगी।



ऐसे में महानगर के विभिन्न स्थानों पर फ्लाइंग स्क्वायड की टीम नकदी रुपए लाने ले
जाने वालों पर नजर रख रही है। इसी की आड़ में रक्षक ही भक्षक बन चुके हैं। जिसका जीता जागता उदाहरण महानगर के गड़चुक इलाके में देखने को मिला है। जहां दो फ्लाइंग स्क्वायड ने एक व्यापारी से एक लाख रुपए की मांग की और पचास हजार रुपए में मामला सेटल कर उसे भेज दिया।



मगर व्यापारी भी समझदार निकला। फ्लाइंग स्क्वायड के चंगुल से पचास हजार रुपए चुकाकर निकाले व्यापारी जहांगीर आलम ने इसकी शिकायत गड़चुक पुलिस से कर दी। व्यापारी आलम ने पुलिस को बताया वह डेढ़ लाख रुपए लेकर आ रहा था। इसी दौरान दो फ्लाइंग स्क्वायड ने उसे रोक लिया और रुपए छोड़ने के एवज में एक लाख रुपए की मांग की।



अंत में दोनों ने उससे पचास हजार रुपए लिए। इस संदर्भ में व्यवसायी द्वारा थाने में फ्लाइंग स्क्वायड के खिलाफ मामला दर्ज कराने के बाद पुलिस ने दीपंकर हजारिका व अली कमाल हुसैन को गिरफ्तार कर लिया। फिलहाल दोनों से पूछताछ जारी है। इस घटना के प्रकाश में आने के बाद लोगों का कहना है कि जब रक्षक ही भक्षक बन जाए तो आम जनता की कौन सुनेगा।