गुवाहाटी। ।

असम में आए तूफान ने भारी तबाही मचाई है। तूफान व बिजली गिरने से 23 लोगों की मौत हो गई। तूफान व बाढ़ के कारण कई घर तबाह हो गए। फसलें भी बर्बाद हुई है।  करीब 22 हजार 800 लोग तूफान व बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। 


पश्चिमी असम के तिनसुकिया और डिब्रूगढ़ जिलों के पांच गांवों में करीब 5 हजार लोग प्रभावित हुए हैं। करीब 118 लोग बेघर हो गए हैं। ब्रह्मपुत्र नदी जोरहाट के नेमातिघाट में खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। 


असम के आपदा प्रबंधन प्राधिकरण(एएसडीएमए) की ओर से जारी बयान के मुताबिक 10 लोगों की मौत तूफान जबकि 13 लोग आकाशी बिजली गिरने से मारे गए। बयान में कहा गया है कि पांच जिलों गोलाघाट,शिवसागर, धुबरी, सोनितपुर और कछार प्राकृतिक आपदा से सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं। 


पूरे राज्य को अलर्ट पर रखा गया है और सरकार ने सभी जिलों को निर्देश जारी कर प्रभावित लोगों को राहत पहुंचाने के लिए उचित कदम उठाने को कहा है। राज्य सरकार ने उपायुक्तों को निर्देश दिया है कि पिछले 48 घंटे में मारे गए लोगों के परिवारों को 4-4 लाख रुपए मुआवजा दिया जाए।  


बयान में कहा गया है कि तूफान प्रभावित जिलों के उपायुक्तों को संपत्ति के नुकसान का आंकलन करने व रिपोर्ट तैयार करने के लिए तुरंत कदम उठाने को कहा गया है ताकि बर्बाद हुए घरों के लिए तुरंत रिहेबिलिटेशन ग्रांट जारी की जा सके। 


इलेक्ट्रोनिक मीडिया के जरिए जागरूकता कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। इन कार्यक्रमों में लोगों को तूफान व आकाशीय बिजली गिरने के कारण सतर्क रहने को कहा गया है। स्टेट डिजास्टर रेस्पांस फोर्स के कर्मियों को सड़कों को साफ करने के काम में लगाया गया है क्योंकि तूफान के दौरान पेड़ गिरने से सड़क संचार बाधित हुआ था।