भारत के पूर्वोत्तर का छोटा सा राज्य त्रिपुरा काफी कम सुर्ख़ियों में रहता है। आज हम त्रिपुरा के बारे में हैरान करने वाली रोचक जानकारी देंगे। वैसे तो भारत मे और भी ऐसे राज्य हैं जो अपने में बहुत ही खास हैं। पर त्रिपुरा की बात ही कुछ और है।




बता दें कि त्रिपुरा राज्य की स्थापना 21 जनवरी 1972 में हुई थी और इस राज्य की राजधानी अगरतला है। त्रिपुरा में 8 जिले हैं और इस राज्य का क्षेत्रफल 10,492 वर्ग किलोमीटर है।




बता दें कि त्रिपुरा में बांस से वस्तुओं का निर्माण बड़े पैमाने पर किया जाता है। अगर त्रिपुरा के लोकप्रिय नृत्यों की बात की जाये तो गारिया, मसक, सुमानी, झूम, ओर लेबांग बूमानी यहां के बहुत प्रसिद्द और लोकप्रिय नृत्य हैं।




त्रिपुरा की आधिकारिक भाषा इंग्लिश और कोकबोरोक हैं और इसके अलावा बंगाली लोगों की ज़्यादा आबादी होने की वजह से यहां बंगाली सबसे ज़्यादा बोली जाने वाली भाषा है। त्रिपुरा शब्द संस्कृत से लिया गया है और इसका मतलब है 3 शहर।




त्रिपुरा भारत का तीसरा सबसे छोटा राज्य है यानि कि गोवा और सिक्किम के बाद त्रिपुरा ही सबसे छोटा राज्य है। आपको बता दें कि त्रिपुरा का पुराना नाम कीरत देश था लेकिन यह बात अब भी स्पष्ट नहीं है कि कीरत देश वजूद में कितने समय तक रहा था।




त्रिपुरा घूमने के लिहाज़ से काफी अच्छी जगह है, यहां पर कई शाही महल और मंदिर हैं जो दुनिया भर से पर्यटकों को आकर्षित करते हैं और यहां की राजधानी अगरतला में भी काफी दर्शनीय स्थल हैं। त्रिपुरा में रहने वाले लोगों का मुख्य उद्योग हैंडलूम यानी कि बुनाई है और यहां के अगर मुख्य त्यौहार की बात की जाये तो दुर्गापूजा यहां का प्रमुख त्यौहार है।




बता दें कि 6 -14 साल के बच्चों के लिए त्रिपुरा में पढ़ाई बिलकुल मुफ्त है। ब्रिटिश शासन काल के समय त्रिपुरा को दो भागों में बाटा गया था एक तिपेररा जिला और और दूसरा तिपेररा हिल।